गणतंत्र दिवस (Republic Day /26 january) पर निबन्ध


हेल्लो दोस्तों,  सब से पहले आप सभी को हमारी तरफ से गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएँ |आज के दिन स्कूल ,कॉलेज में बहुत सारी प्रतियोगिताए आयोजित होती है |इस दिन निबन्ध प्रतियोगिता जरुर होती है |इस लिए हमने अपना आज का पोस्ट आपको 26 जनवरी के बारे में जानकारी देने के लिए ही बनाया है |ताकि आप  गणतंत्र दिवस को अच्छे से जान सके और इस पर निबन्ध तैयार कर सके |

                      गणतंत्र दिवस  पर निबन्ध 


REPUBLIC DAY


हमारी भारत भूमि बहुत सालो तक ब्रिटिश हुकुमत की गुलाम थी |ब्रिटिश से आए ये अंग्रेज लोग भारतीयों पर बहुत जुल्म करते थे | भारत के कई राजाओ महाराजाओ ने इनको  देश से बाहर करने के खूब जतन किये |खूब लड़ाईयां लड़ी गई लेकिन इनके आगे सभी को झुकना पडा|  1600 ई. में ईस्ट india company भारत में व्यापार करने के लिए आई थी |उस वक्त भारत एक सोने की चिड़िया का देश कहा जाता था |लेकिन धीरे धीरे इस company ने भारतीयों को लूटना शुरू कर दिया और अपना गुलाम बना लिया |

1947 में जाकर भारत इन अंग्रेजो की गुलामी से आजाद हुआ था |इसमे भगत सिंह ,चन्द्र शेखर आजाद ,तात्या टोपे ,रानी झाँसी ,लाला लाजपत राय बहुत से ऐसे क्रांति वीरो ने आपने प्राण देकर भारत को स्वतंत्र कराया |
15 अगस्त ,1947 को मिली ये स्वतंत्रता ऐसे ही अनेको वीरो की देन है | स्वतंत्र  भारत के पहले प्रधान मंत्री के रूप में पंडित जवाहर लाल नेहरु ने शपथ ले थी |


 गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है ? 

आजादी के 2 साल और 4 महीने बाद 26 जनवरी ,1950 को भारत सरकार अधिनियम 1935 को हटा कर भारत का अपना  संविधान लागू हुआ था |और भारत को एक प्रजातान्त्रत्रिक गणतंत्र घोषित किया गया था |क्यों की इस दिन भारत  गणतंत्र हुआ था इसलिए इस दिनको तब से हर साल 26 जनवरी वाले दिन गणतंत्र दिवस के रूप में बड़े धूम धाम से बनाते है |  गणतंत्र राष्ट्र का मतलब होता है ऐसा देश जहाँ पर सारे अधिकार जनता के पास हो ,जहाँ की जनता को अपना नेता का चुनाव करने का अधिकार प्राप्त हो |

Abraham lincoln ने  गणतंत्रता की परिभाषा कुछ इस तरह दी थी की 
 
Government of the people,by the people and for the people.
 

 गणतंत्र देश ऐसा देश है जहाँ की सरकार  जनता की,जनता द्वारा और जनता के लिए होती है |

भारत का संविधान बनाने में 2 साल 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था |और इस सविंधान में उस वक्त 395 अनुच्छेद थे जो 22 भागो में विभाजित थे |8 अनुसूचियां थी लेकिन आज 465 अनुच्छेद है और 12 अनुसूचियां है ये भी 22 भागो में विभाजित है |इसी दिन भारत के डाक्टर राजेंद्र प्रसाद ने  पहले राष्ट्रपति की शपथ ली थी | 
 
 
 
 
 गणतंत्र दिवस कैसे मनाते है ?
 
 गणतंत्र दिवस एक राष्ट्रीय त्यौहार है इसलिए इस दिन पुरे भारत में छुट्टी रहती है |लोग पुरे हर्षो उल्हास के साथ इस दिन को मानते है |
 भारत की राजधानी नई दिल्ली में तो इसकी तैयारी एक महीने पहले से ही शुरू हो जाती है | दिल्ली के राजपथ पर सांस्कृतिक कार्यक्रम की तैयारी चालू  हो जाती है रोज वहां पर सैनिक परेड का अभ्यास करते है | सुरक्षा की द्रष्टि से india गेट को बंद कर दिया जाता है |
 
 गणतंत्र दिवस वाले दिन india गेट परअमर जवान ज्योति पर जाकर प्रधान मंत्री श्रद्धांजलि देते है |
उसके बाद  राष्ट्रपति और विशेष अतिथियों का स्वागत होता है |दिल्ली के राजपथ पर शहीदों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया जाता है |
उसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम शुरू होते है |देश के लगभग सभी states की झांकिया प्रस्तुत की जाती है जो उस राज्य के बारे में ,वहां की  संस्कृति   का प्रतिनिधित्व करती है | सब से अच्छी झांकी को पुरस्कार भी मिलता है |
भिन्न भिन्न राज्यों से नर्तक अपना नृत्य पेश करते है |जो बड़ा ही मनमोहक होता है |
तीनो सेना के जवान परेड करते है और तरह तरह के करतब दिखाते है |
देश की शक्ति को प्रदर्शित करने के लिए इस दिन तोप ,मिसाइल, और तरह तरह के विभिन्न विभिन्न लड़ाई के उपकरण का प्रदर्शन किया जाता है |
रात को राष्ट्रपति भवन पर 21 तोपों की सलामी दी जाती है 
इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण दूरदर्शन पर आता है ताकि जो लोग राजपथ पर नही है वो घर बेठे इसका आनंद उठा सके |
सभी राज्यों मेंअलग अलग ध्वजारोहण होता है और राष्ट्रिय गान गया जाता है | और सांस्क्रतिक कार्यक्रम होते है |स्कूल और कालेजो में भी तरह तरह के कार्यक्रम और प्रतियोगिताए आयोजित होती है |
इस प्रकार  गणतंत्र दिवस बहुत ही हर्ष के साथ पूरा देश मनाता है और प्रत्येक भारतीय अपने पर और अपने देश पर गोरवान्वित होता है |
 
जय भारत जय हिन्द |
 
उम्मीद है आज की ये  गणतंत्र दिवस पर पोस्ट आपको पसंद आई होगी अपने comment comment box में जरुर बताए |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *