हिंदी शायरी hindi shayri

हिंदी शायरी

 वक्त ….
तू इतना पीछे छोड़ देगा मुझे ,ए –वक्त ,
मैंने सोचा न था |
साथ ही तो चल रही थी मै तेरे ,
तू मुझे यूँ  दगा देगा सोचा न था |
मैंने तो हर पल वफ़ा निभाई थी तुझ से ,
तू यूँ बेवफ़ाई करेगा सोचा ना था |
मैंने तो तेरी हर बेरुखी को अपना समझा ,
तू यूँ मेरी रुसवाई करेगा सोचा ना था |

हिंदी शायरी

यादें ……..

मत पुछो क्या
कर रहे है हम ,
दास्ताँ -ए –
गमो की लिख रहे है हम |
हर पन्ने
पर  जिक्र तो नही है आपका ,
पर हर पल में
आपकी यादो को सहेज रहे है हम |
हिंदी शायरी

शब्दों की कलम ……..

जब कह नही पाते है किसी
से कुछ ,
तो शब्दों को अपनी कलम की
स्याही बना लेते है |
अपने हर फसाने को कागज पर
उकेर कर ,
  हर गम   भुला देते है |
दिल में एक लम्बी सुकून
की लहर उठती है ,
जब अपना हर दर्द पन्ने को
सुना देते है |
हिंदी शायरी

 

मुस्कुरा के देख ……

आंसुओ  को मुस्कुराहट बना के तो देख ,हर जगह ख़ुशी
नजर आएगी |

कुछ जिया जीवन मैंने ऐसा ,अब तू भी
जीके देख |

दुःख है सब से अच्छा दोस्त ,एक बार
दोस्ती कर  के तो देख |

खुशी अपने आप आएगी ,
 एक बार यूँ ही मुस्कुरा के तो देख |
हिंदी शायरी

 

अधूरी आरजू …..

मेरी हर आरजू अधूरी रह गई ,गुस्ताखी  तो मेरी ही थी ,
जो मैंने
उन्हें  अकेला छोड़ दिया |
बेदर्द निकला ये जमाना ,सताया इतना  मुझे ,के मेरी हर ख्वाइश ने ,
दम  तोड़ दिया |
आह निकलती थी कभी सुबकने की ,
पर मुस्कुराहट को मैंने जीवन बना लिया |
जमाने की बदसलूकी ने इतना खामोश कर दिया मुझे ,
के मैंने
खुद को तोड़ के एक पत्थर  का ,बुत बना दिया |
हिंदी शायरी

छोड़ दी मैंने ….

शरीफों का जो हाल देखा
,शराफत छोड़ दी मैंने |झूठ को जो जीतते देखा ,सच
से यारी छोड़ दी मैंने |
आशिको का जो हाल देखा
,मोहब्ब्त छोड़ दी  मैंने |
खुदाई को जो बिकते देखा
,बन्दगी छोड़ दी मैंने |
हिंदी शायरी

 

कन्धो की तलाश …..

 कैसी अजीब दास्ताँ  है जिंदगी की ,
जो
इन्सान दुनिया में अकेला आता है ,और
दुनिया
से रुक्सत होते वक्त भी अकेला ही होता है |
वो
इन्सान अपनी पूरी जिन्दगी जीने के लिए
 सहारे की तलाश करता है और
अपनी
मौत के वक्त चार कन्धो की तलाश करता है |
हिंदी शायरी

 

जिंदगी का दर्द ……

मुस्कुरा लेते है ,
गमगीन उदासियो का दौर भुलाने के लिए |
पलको को आँखों पर झुका लेते है ,
आंसुओ की धार छुपाने के लिए |
वक्त बेवक्त कौन है अपना ,
यह जानना कब आसान हुआ |
हम तो सभी को अपना मान लेते है ,
जिंदगी का दर्द भुलाने के लिए |
हिंदी शायरी

2 Comments on “हिंदी शायरी hindi shayri”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *